रविवार, 3 फ़रवरी 2013

इस कदर पेश आना तेरा



पहले जख्मों को जलाना तेरा।
फिर अश्कों से बुझाना तेरा।
बड़ा अजीब सा अंदाज है ये,
इस कदर पेश आना तेरा ।।


पहले तो मुझको तरसाना तेरा।
फिर उस पर मुस्कुराना तेरा।
दिल में आग लगा जाता है,
इस कदर पेश आना तेरा ।।


पहले तो मुझे बुलाना तेरा।
फिर उस पर नजरें झुकाना तेरा।
रास नहीं आता है मुझे ये,
इस कदर पेश आना तेरा ।।


पहले तो वो मुस्कुराना तेरा।
फिर खामोश हो जाना तेरा।
मेरे दिल को जदा कर जाता है,
इस कदर पेश आना तेरा ।।