सोमवार, 18 मार्च 2013

हर ख़ुशी मुझसे हुई अनजान है ।

 भीड़ है क़यामत की, और दिले नादान है ।
जिन्दगी की आरजू है, मौत का सामान है ॥

हिज्र में तेरी सनम, ये हाल मेरा हो गया,
न कोई हशरत है दिल में, न कोई अरमान है ॥

है नहीं गमख्वार कोई, बज्म-ए-उल्फत में यहाँ,
 तन्हां रह कर जिन्दगी, हो चुकी वीरान है ॥

आशियाँ उसने जला कर, खाक मेरा कर दिया,
जिन्दगी जिसके लिए, हो चुकी कुर्बान है ॥ 

इंतकाम-ए-बेवफाई, मंजिल-ए-मक़सूद है,
वास्ते तेरे सनम, मेरा खुला ऐलान है ॥

वादी-ए-गुर्बत की चुभन, दिन-ओ-रात रहती है,
हर ख़ुशी मेरी हुई, मुझसे ही अनजान है ॥


प्रदीप कुमार पाण्डेय  



मेरे द्वारा लिखी पुस्तक  दिए का दिल जले लोग दिवाली समझे   पढने के लिए यहाँ क्लिक करें click here