गुरुवार, 7 सितंबर 2017

मानव और पशु


पशु मानव तो हैं भिन्न-भिन्न,
   फिर क्या दोनों में नाता है।
       मानव पशु पर पशु मानव पर,
          क्यों आश्रित होता जाता है।।
             पशु का गुण तो होता पशुता,
                 निष्ठा के साथ निभाता है।
                    पर मानव की मानवता पर,
                         क्यों प्रश्न चिह्न लग जाता है।।

क्यों दूर धर्म से क्षत्रिय है,
    क्यों ब्राह्मण पूजा भूल गया।
          क्यों शूद्र श्रेष्ठ बन बैठा है,
               क्यों बनिक आज प्रतिकूल गया।।
                    क्या यही कर्म है मानव का,
                         क्यों अत्याचार बढ़ाता है।
                             खुद भी मिल जाता मिट्टी में
                                औरों का नाम डुबाता है।।

मानव के भीतर मानवता,
  अब नहीं दिखाई देती है।
     पशु की चीखों की रातों को,
        आवाज सुनाई देती है।।
           यदि शत्रु शत्रुता दिखलाए,
             तो क्या अनुचित कर देता है।
               छल-कपट करे यदि मित्र कभी,
                  दु:ख हृदय विदारक देता है।।

पशु को दोषी कैसे कह दूँ,
   जिसकी विकसित है सोच नहीं,
      जब मानव को पशु बनने में,
         रत्ती भर है संकोच नहीं।।
            जिस मानव का पद-कमलों में,
              माधव के मन नहिं रमता है।
                वो मानव भी है पशु समान,
                   ऐसा ये 'दीप' समझता है।।