रविवार, 19 नवंबर 2017

रूठने मनाने का सिलसिला पुराना है

दूरियाँ  दिलों  की  सब,  आज अब मिटाना  है।
रूठने   मनाने   का,   सिलसिला    पुराना  है।।

रविवार, 12 नवंबर 2017

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई

अँग्रेजों  ने रण में  जिससे,  इक  दिन  मुँह  की खाई थी।
वह   भारत   माता   की   बेटी,   रानी   लक्ष्मीबाई   थी।।

बुधवार, 8 नवंबर 2017

वफ़ादार को ही सताया गया।

वफ़ादार  को   ही   सताया   गया।
यहाँ  कातिलों  को  बचाया गया।।

रविवार, 5 नवंबर 2017

ख़ुदा होने लगा है

ज़माना  फिर  न  जाने  क्यों  ख़फ़ा  होने लगा है।
मुहब्बत  भी  निभाना  अब  स ज़ा  होने लगा है।।