सोमवार, 1 अक्तूबर 2018

आओ मिलकर दीप जलाएँ - गीत

आओ मिलकर दीप जलाएँ।
       अँधियारे से मुक्ति दिलाएँ।
              अंधकार में बिछड़ गये जो,
                   पुनः उन्हें अब साथ मिलाएँ।।

राष्ट्रभक्ति का भाव जगाकर,
       दंभ-द्वेष को दूर भगाकर,
             जन-जन को निज मीत बनाकर
                   हिन्दु राष्ट्र को एक बनाएँ।।

संघ शक्ति की बने भावना,
     युवा शक्ति को पड़े जागना,
            सर्व शक्ति को ऐक्य बनाकर,
                   ध्येय मार्ग को हम अपनाएँ।।

यही 'दीप' के मन की आशा,
       सूर्योदय हो मिटे कुहासा,
            जीवन बने सफल परिभाषा
                  ऐसा जीवन हम जी पाएँ।।

-प्रदीप कुमार पाण्डेय 'दीप'